व्यक्तिगत स्वार्थ से निहित था बिहार का महागठबंधन

बिहार को युहीं राजनीती का लेबोरेटरी नहीं कहा जाता है| यहाँ से कई मर्तबा केंद्र की राजनीती तय हुई है| किरदार हमेशा बदलता रहता है| ऐसा बिल्कुल नहीं है कि जो बिहार में हो रहा है वो भारतीय राजनीती बिलकुल नया या अजूबा हो रहा है| ऐसी घटनाएँ इतिहास में भी है| प्रकाश झा साहब की एक फिल्म है ‘राजनीती’| उसमे एक बढ़िया सा जुमला है कि ‘राजनीती में फैसले सही या गलत नहीं होते, फैसले से बस मकसद पूरा होना चाहिए’| नितीश कुमार की पार्टी ‘जदयू’ एक गठबंधन वाली पार्टी है| किसके साथ गठबंधन रखना है और किससे तोड़ना यह उनपर और उनकी पार्टी पर निर्भर करता है| हमरा और आपका विचार इसपर अलग अलग जरूर हो सकता है| किसी को सही लग सकता है और किसी को गलत| जहाँ तक रही बात राजनितिक मूल्य और जनता के मैंडेट का, तो एक बात साफ़ है, भारत में कोई भी पार्टी नहीं है जो राजनितिक मूल्यों पर चल सके| आम आदमी पार्टी जब बनी थी तो लोगों को लगा था कि यह एक साफ़ सुथरी और मूल्यों से भरी पार्टी बनेगी जो राजनीती को एक नया आयाम पैदा करेगी| जब तक मूल्यों पर चली तब तक दिक्कतें होती रही| प्राइम टाइम बनता रहा|

लेकिन जैसे ही पार्टी के भीतर आंतरिक लोकतंत्र का लगाम अरविन्द केजरीवाल ने अपने हाथों लिया तब सब सही सा हो गया| नहीं तो आए दिन बागी-बागी का खेल चलता ही रहता था| इस खेल में ऐसे ऐसे लोग हीरो बन रहे थे जिनकी ना तो राजनीती में और नाही किसी सामाजिक कामों में कोई ख़ास वजूद ही नहीं है| इसलिए किसी पार्टी में आंतरिक लोकतंत्र हो, पार्टी अपने फंडिंग का ब्यौरा दे, राजनितिक मूल्यों की अहमियत दी जाए आदि चीजों का कामना करना बेवकूफी मात्र है| रही बात जनता के मैंडेट और धोखा करने की तो इसका कुछ भी साफ़ नहीं है कि जनता ने असल मैंडेट किसको दिया था| वोट के आदान प्रदान से RJD और JDU जीती थी| यह सब जानते है इसमें JDU की ज्यादा हानी हुई थी| नितीश कुमार की 115 (2010 चुनाव में) सीटों वाली पार्टी 71 (2015 चुनाव में) पर पहुच गई थी| वही RJD सिर्फ वोट शेयर के जरीय 22 (2010 चुनाव में) सीटों से 80 (2015 चुनाव में) सीट तक पहुचं गए| 2010 और 2015 के बीच लालू यादव ने ऐसा क्या कर दिया था कि इतनी बढ़िया सीट पा गए| चालाकी से टिकट बटवारा और वोट प्रतिशत शिफ्ट होने का ही यह परिणाम था|

See also  सियासत भरी रही याकूब की फांसी

कई जगहों पर JDU के विधायक पहले से जीते हुए थे उन्हें टिकट तक नहीं मिली थी| उन जगहों पर RJD ने अपने विधायक खड़ा करवाकर उन सीटों को जीत लिया जो कभी JDU का जीता हुआ सीट हुआ करता था| ऐसे में JDU के खुद के विधायक बागी बन बैठे और कुछ ने तो पार्टी छोड़ भाजपा में जा शामिल हुए| इसलिए मैंडेट तब तय होता जब पता होता कि जनता ने किसको वोट दिया है| RJD जो अपने आप को धर्मनिरपेक्षता का प्रतिक समझती है वो खुद उस समुदाय को धोखा देते आई है| अपने बैनर पर उर्दू में राजद लिखवा लेने और बीजेपी का नाम लेकर डरवाने से धर्मनिरपेक्षता साबित नहीं होती है| अगर सच में धर्मनिरपेक्ष है और मुस्लिम समुदाय का आदर करते है तो उन्हें कम से कम उपमुख्यमंत्री का पद अपने बेटे नहीं बल्कि अब्दुल बारी को देते| यह बात जदयू के नेता अली अनवर साहब को भी समझ लेनी चाहिए| अनवर साहब का जमीर उस वक्त कैसे इज्जाजत दे दिया जब अब्दुल बारी को शपथ के लिए दोनों के बेटे के बाद बुलाया गया| यह है राजनितिक अनादर जो मुस्लिम समाज के साथ किया है|

बात यही नहीं रूकती| इनके अलावां और भी उनके पुत्रों से कई सीनियर और दिग्गज विधायक है, जिनका श्री यादव ने नजरंदाज कर अपमानित किया है| अपने बेटे को उपमुख्यमंत्री के अलावां तीन-चार महत्वपूर्ण मंत्रिमंडल का पद तक दे डाला था| वही अब्दुल बारी को सिर्फ फाइनेंस देकर मामला टालना चाह रहे थे| यह किसी और का नहीं बल्कि श्री यादव का ही बोया हुआ शनिचर था| पुत्र मोह में श्री यादव वो सबकुछ भूल चुके है जहाँ से शुरुआत की थी| जिसकी जितनी हिस्सेदारी उसकी उतनी भागीदारी| कोई पार्टी फण्ड के बारे में नहीं पूछ रहा और नाही पार्टी के भीतर आन्तरिक लोकतंत्र के बारे में पूछ रहा| कम से कम जो वरिष्ठ लोग थे उनको तो इज्जत मिलनी चाहिए ही थी| ऐसा नहीं है कि दलबदल कोई पहली मर्तबा हो रहा है| इससे पहले भी हो चूका है| याद कीजिए उस राजनारायण को जिसने जनता पार्टी की ओर से श्रीमती इंदिरा गाँधी को चुनाव में हराया था| वही राजनारायण बाद में संजय गाँधी के साथ मिलकर फ़िल्मी स्टाइल में सरकार गिराने में भी अपनी अहम भूमिका निभाई थी|

See also  बैंकों के जटिल नियम ही अक्सर होने वाले बैंक घोटालों के असल नीवं

दूसरा उदहारण सुभ्रमनियम स्वामी साहब है| जिन्होंने सोनिया गाँधी और श्रीमती जयललिता के साथ मिलकर अटल बिहारी बाजपेई की सरकार गिराई थी| वही सुभ्रमनियम स्वामी बीजेपी में है| जयललिता और श्रीमती सोनिया गाँधी पर केस भी करते रहे है| ये वो महतवपूर्ण लोग है जिन्होंने सत्ता का अलग अलग स्वाद लेकर सरकार को प्रभावित किया है| लेकिन इससे भी अपने आप को अलग नहीं किया जा सकता कि नितीश कुमार राजनितिक महत्वकांक्षी नहीं थे| मैंने बिहार चुनाव के वक्त भी वही लिखा था जो अब लिख रहा हूँ| वो एक साफ़ सुथरी छवी के नेता भी रहे है जिसका पूरा फायदा लालू प्रसाद को अपने राजनितिक करियर को पुनर्जीवित करने में मिला है| जब कहा जाता था कि घर बनवा लो, तो जवाब होता था कि पहले बिहार तो बना लें| इससे भी कोई नहीं भाग सकता कि बिहार में अगर सबसे बढ़िया राजनितिक समय रहा है तो नितीश कुमार का बीजेपी के साथ गंठबंधन में ही रहा है| मैंने बिहार के इकनोमिक सर्वे और तमाम सरकारी दस्तावेजों को पढ़कर बिहार चुनाव से पहले इस पर विश्लेषण करने की कोशिश भी की थी|

वैसे लालू यादव अपने को जयप्रकाश नारायण और राम मनोहर लोहिया के समर्थक भी बताते है और बेनामी संपति के मालिक भी है| अगर आज जयप्रकाश नारायण और राम मनोहर लोहिया होते तो वो भी इनपर शर्म करते| लालू यादव भले ही आरोप लगा रहे हो और अपने आप को परोपकारी दिखाने की कोशिश कर रहे हो लेकिन लालू को नितीश की जरूरत थी| लालू प्रसाद पर खुद को बचाए रखने का संकट था| एक मामले में कोर्ट से उन्‍हें सजा मिल चुकी थी| वह चुनाव नहीं लड़ सकते थे| इस दौर में राबड़ी देवी को लेकर चुनाव में उतरना उनके लिए सेफ नहीं था| मीसा चुनाव हार चुकी थीं, तो लालू के पास दोनों बेटों को राजनीति के लिए तैयार करने के अलावा कोई विकल्‍प नहीं बचा था| यह तभी संभव था, जब कोई मजबूत ढाल उनके पास हो| बिहार की राजनीति में पासवान उतने प्रासंगिक नहीं बचे थे| उपेंद्र कुशवाहा का उदय हो रहा था, जो कोइरी-कुर्मी वोट बैंक के साथ लोकसभा की कुछ सीटों पर कब्‍जा जमाए थे| लालू के पास एकमात्र विकल्‍प नीतीश कुमार थे, जो उनके काम आ सकते थे| नीतीश कुमार को एक सहारे की ज़रूरत थी, जो उनके वोट बैंक के साथ मिलकर बहुमत हासिल कर सके|

See also  70 सालों के बाद भी ‘महात्मा गाँधी’ को लेकर समझें उलझी क्यों है ?

यह महज संयोग नहीं था, बल्‍कि दोनों के अपने अपने हित थे, जो दोनों को ज़िन्दा बचाए रखने के लिए ज़रूरी था| इस गठबंधन से दोनों का फायदा हुआ| लालू यादव नितीश का नरेन्द्र मोदी से खफा वाली बात से अच्छे से अवगत थे| इसलिए पास बुलाया और अपने पार्टी को पुनर्जीवित कर दिया| वही दूसरी ओर नितीश कुमार को व्यक्तिगत संतुष्टि मिल गई| नीतीश ने साबित कर दिया कि नरेंद्र मोदी की आंधी के बाजवूद बिहार में वही नेता हैं| जिस नफरत से वो भाजपा के गठबंधन से अलग हुए थे उसका बदला भी ले चुके है| इस गठबंधन में नितीश कुमार की छवी बिल्कुल फिट नहीं बैठ पा रही थी| लालू प्रसाद यादव के साथ ना तो व्यक्तित्व मेल खा रहा था और नाही राजनितिक तौर तरीके| इससे बेहतर है कि वापस लौटा जाए|

Spread the love

Support us

Hard work should be paid. It is free for all. Those who could not pay for the content can avail quality services free of cost. But those who have the ability to pay for the quality content he/she is receiving should pay as per his/her convenience. Team DDI will be highly thankful for your support.

You can make secured payment by any mean from here

Leave a Comment

error: Content is protected !!